Subscribe Us

Responsive Advertisement

Advertisement

पूर्णता का अहंकार।

   




      बाप ने बेटे को भी मूर्तिकला ही सिखाई । दोनों हाट में जाते और अपनी - अपनी मूर्तियाँ बेचकर आते । बाप की मूर्ति डेढ़ - दो रुपए की बिकती पर बेटे की मूर्तियों का मूल्य आठ - दस आने से अधिक न मिलता ।

          हाट से लौटने पर बेटे को पास बिठाकर बाप उसकी मूर्तियों में रही हुई त्रुटियों को समझाता और अगले दिन उन्हें सुधारने के लिए समझाता ।

          यह क्रम वर्षों चलता रहा । लड़का समझदार था , उसने पिता की बातें ध्यान से सुनी और अपनी कला में सुधार करने का प्रयत्न करता रहा । कुछ समय बाद लड़के की मूर्तियाँ भी डेढ़ रुपए की बिकने लगीं ।

          बाप अब भी उसी तरह समझाता और मूर्तियों में रहने वाले दोषों की ओर उसका ध्यान खींचता । बेटे ने और भी अधिक ध्यान दिया तो कला भी अधिक निखरी । मूर्तियाँ पाँच - पाँच रुपए की बिकने लगीं ।

         सुधार के लिए समझाने का क्रम बाप ने तब भी बंद न किया । एक दिन बेटे ने झुंझला कर कहा- " आप तो दोष निकालने की बात बंद ही नहीं करते । मेरी कला अब तो आप से भी अच्छी है , मुझे पाँच रुपए मिलते हैं जबकि आपको दो ही रुपए । 

         " बाप ने कहा- " पुत्र ! जब मैं तुम्हारी उम्र का था तब मुझे अपनी कला की पूर्णता का अहंकार हो गया और फिर सुधार की बात सोचना छोड़ दिया । तब से मेरी प्रगति रुक गई और दो रुपए से अधिक मूल्य की मूर्तियाँ न बना सका । मैं चाहता हूँ वह भूल तुम न करो । अपनी त्रुटियों को समझने और सुधारने का क्रम सदा जारी रखो ताकि बहुमूल्य मूर्तियाँ बनाने वाले श्रेष्ठ कलाकारों की श्रेणी में पहुँच सको । "

सिख : हमें जीवन में कभी अहंकार नहीं करना चाइये और न ही अपने ज्ञान का अहंकार करना चाइये। कोई भी मनुष्य कभी भी ज्ञान से पूर्ण नहीं हो सकता।  तो हमेश हमें ज्ञान के लिए भूखा रहना चाइये। 

धन्यवाद

जय हिन्द जय भारत। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

यह ब्लॉग खोजें

Translate